Saraswati Vrat Katha In Hindi (सरस्वती व्रत कथा) | Basant Panchami (बसंत पंचमी)


Saraswati Vrat Katha In Hindi (सरस्वती व्रत कथा) | Basant Panchami (बसंत पंचमी)

जैसे ही सर्दियां फीकी पड़ जाती हैं, खिलती वसंत ऋतु हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार सबसे शुभ त्योहारों में से एक का मार्ग प्रशस्त हो जाता है। बसंत पंचमी को देश के पूर्वी भाग में सरस्वती पूजा के रूप में भी मनाया जाता है और दक्षिणी क्षेत्र की ओर इसे श्री पंचमी के रूप में मनाया जाता है।

भक्तों का मानना है कि भगवान ब्रह्मा की पत्नी देवी सरस्वती की पूजा करने से ज्ञान, रचनात्मकता और विचारों की पवित्रता लाकर दुनिया को एक बेहतर जगह मिलती है। इसके अलावा, यह शुभ दिन सरसों की फसलों के साथ-साथ फूलों के पकने और खिलने से जुड़ा है और यही एक कारण है कि सरसों की फसलें मौसम के दौरान मोहक दिखती हैं।

ऐसा माना जाता है कि पीला रंग देवी सरस्वती का पसंदीदा है और यही कारण है कि इस दिन व्यंजनों, परिधानों और हर चीज की सजावट पीले रंग की होती है।

इस लेख में हम सरस्वती व्रत और Saraswati Vrat Katha (सरस्वती व्रत कथा) के बारे में जानेंगे।

When to do Saraswati Vrat and Saraswati Vrat Katha (सरस्वती व्रत और सरस्वती व्रत कथा कब करनी चाहिए)?

बसंत पंचमी हिंदू कैलेंडर के माघ महीने के पांचवें दिन आती है और वसंत ऋतु के आगमन का प्रतीक है। बसंत पंचमी का त्योहार हर साल माघ महीने में हिंदू कैलेंडर (फरवरी-मार्च के बीच) के अनुसार मनाया जाता है।

Saraswati Vrat Katha Vidhi In Hindi (सरस्वती व्रत कथा विधि) | Basant Panchami (बसंत पंचमी)

सरस्वती व्रत या बसंत पंचमी के दिन सुबह जल्दी उठकर नित्य क्रियाओं से निवृत्त होकर और स्नान करके मां सरस्वती के प्रतिमा की स्थापना कीजिए।

उन्हें पीले रंग का वस्त्र अर्पित कीजिए। वस्त्र अर्पित करने के बाद हल्दी, चंदन, रोली, पीले फूल, पीली मिठाई, अक्षत और केसर अर्पित कीजिए।

बसंत पंचमी के दिन वाद्य यंत्र और किताबों को अर्पित कीजिए। फिर मां सरस्वती वंदना का पाठ कीजिए और आरती करके कथा सुनिए।

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Dashama Vrat Katha In Hindi (दशामा व्रत कथा)
Saraswati Vrat Katha In Hindi (सरस्वती व्रत कथा) Basanat Panchami (बसंत पंचमी) Saraswati Aarti Lyrics (सरस्वती आरती)

Benefits of Saraswati Vrat and Saraswati Vrat Katha (सरस्वती व्रत और सरस्वती व्रत कथा के लाभ)

सरस्वती व्रत और Saraswati Vrat Katha (सरस्वती व्रत कथा) के लाभ इस प्रकार हैं:

  • यह पूजा करियर और शिक्षा से जुड़ी सभी बाधाओं को दूर करती है।
  • यह करियर और शिक्षा में सफलता प्राप्त करने में मदद करता है।
  • यह किसी को अपने लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करने और उन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने में सहायता करता है।
  • व्यक्ति को दिव्य वाणी की शक्ति प्रदान करता है।

Saraswati Vrat Katha In Hindi (सरस्वती व्रत कथा) 1 | Basant Panchami (बसंत पंचमी)

एक बार की बात है, सुकेता नाम का एक राजा रहता था। वह एक अच्छा इंसान और धर्म का अनुयायी था। उसने धर्म के नियमों के अनुसार राज्य पर शासन किया।

राजा अपने राज्य के नागरिकों की बहुत अच्छी देखभाल करता था। उसकी सुवेदी नाम की एक बहुत ही सुंदर पत्नी थी।

एक बार सुकेता के राज्य पर आक्रमण हुआ और सुकेता को अपने शत्रुओं से युद्ध करने को विवश होना पड़ा। दुश्मन मजबूत थे और सुकेता अपनी रक्षा करने में सक्षम नहीं था और अपनी जान बचाने के लिए युद्ध के मैदान से भाग गया।

उसके साथ उसकी पत्नी भी भाग गई। वे दोनों अपनी जान बचाकर भाग गए और समय रहते एक जंगल में पहुंच गए। जब वे जंगल में पहुँचे, वे थक चुके थे और भूखे थे।

उन्हें जो कुछ भी मिला उसे वे खा रहे थे लेकिन फिर भी उनकी भूख शांत नहीं हो रही थी क्यूंकि उनको जो कुछ भी खाने को मिला था वह काफी कम था।

भूख ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया था और राजा एक समय चल भी नहीं पा रहा था। राजा नीचे गिर गया और रानी अपनी जाँघ को राजा के लिए तकिये के रूप में बनाकर उसे शांत करने की कोशिश कर रही थी।

वह बहुत चिंतित थी और उसने भगवान से कुछ मदद की प्रार्थना की जिससे उनको चिंताओं और दर्द से छुटकारा मिल सके।

संयोग से ऋषि अंगिरस उस रास्ते से जा रहे थे और उन्होंने राजा और रानी को देखा। उन्होंने रानी से पूछा कि वह कौन है और वे जंगल में कैसे आए हैं।

रानी ने ऋषि को अपनी कहानी सुनाई। ऋषि को पता चल गया कि वे राजा और रानी हैं।

फिर उन्होंने रानी से कहा कि पास में ही पंचवटी तालाब के पास “दुर्गा क्षेत्र” नामक एक जगह है। उन्होंने रानी को पूरी भक्ति के साथ देवी की पूजा करने की सलाह दी। ऋषि ने रानी और राजा को साथ में चलने के लिए कहा।

वे दोनों ऋषि के साथ उस स्थान पर चले गए। ऋषि ने राजा और रानी से पवित्र तालाब में स्नान करने को कहा। राजा और रानी स्नान करके लौटे।

ऋषि ने उन्हें देवी दुर्गा और सरस्वती की पूजा करवाई। उन्होंने उनसे षोडशोपचार पूजा करवाई, जो 16 विभिन्न प्रकार की पूजा या सेवा करके देवी को प्रसन्न करती है। यह पूजा 9 दिनों तक तक चली।

दसवें दिन, एक यज्ञ किया गया और ऋषि अंगिरस द्वारा निर्देशित राजा और रानी द्वारा 10 प्रकार के दान किए गए। इस प्रकार उनका व्रत संपन्न हुआ।

दंपति ऋषि अंगिरस के आश्रम में खुशी-खुशी रहे। देवी की कृपा से उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई। लड़के का नाम सूर्यप्रताप रखा गया।

बालक आश्रम में पला-बढ़ा और युद्ध सहित सभी प्रकार की शिक्षा प्राप्त की। वह बड़ा होकर एक महान तलवारबाज़ बना। उसे कोई डर नहीं था।

लड़का एक युवा योद्धा बना और अंगिरस ऋषि के आशीर्वाद से उन शत्रुओं पर हमला किया जो अब उसके पिता के राज्य पर शासन कर रहे थे।

उसने युद्ध के मैदान में सभी दुश्मनों को हरा दिया और उसने अपने पिता के खोये हुए राज्य पर नियंत्रण कर लिया। वह आश्रम में लौट आया और ऋषि के आशीर्वाद से अपने माता-पिता को वापस अपने राज्य में ले गया।

उस दिन से सुवेदी हर साल इस व्रत को करती थी और उनका परिवार हमेशा के लिए खुशी से रहने लगा।

Saraswati Vrat Katha In Hindi (सरस्वती व्रत कथा) 2 | Basanat Panchami (बसंत पंचमी)

ऐसी मान्यता है कि जब भगवान ब्रह्मा ने दुनिया की रचना की थी तब इस धरती पर हर एक चीज मौजूद थी फिर भी उन्हें कुछ कमी लग रही थी।

इस कमी को दूर करने के लिए उन्होंने कमंडल से पानी निकाला और ज़मीन पर छिड़क दिया। पानी छिड़कते ही एक सुंदर कन्या की उत्पत्ति हुई।

इस कन्या के तीन हाथों में वीणा, पुस्तक और माला मौजूद थी वहीं चौथा हाथ वरदान देने की मुद्रा में था।

जन्म लेने के बाद इस कन्या ने वीणा बजाई जिसके वजह से हर एक जीव में स्वर आ गया था। कहा जाता है कि इसी की वजह से इस कन्या का नाम सरस्वती रखा गया था।

तब से लेकर अब तक देवलोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा विधिवत तरीके से की जाती है।

Saraswati Vrat Katha In Hindi PDF Download (सरस्वती व्रत कथा)


onehindudharma.org

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Saraswati Aarti Lyrics (सरस्वती आरती)

Leave a Comment

आज का पंचांग जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें। 👉

X
You cannot copy content of this page