आज का पंचांग, आरती, चालीसा, व्रत कथा, स्तोत्र, भजन, मंत्र और हिन्दू धर्म से जुड़े धार्मिक लेखों को सीधा अपने फ़ोन में प्राप्त करें।
इस 👉 टेलीग्राम ग्रुप 👈 से जुड़ें!

×
Skip to content

सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra): शक्ति का निरूपण

सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra Lyrics In Hindi)
onehindudharma


आज का पंचांग जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें।
👉 पंचांग

~ जय आदिशक्ति दुर्गा माँ ~

इस लेख में सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra) संस्कृत भाषा में दिया गया है। आप निचे दी गयी विषय सूचि से सीधे इसे चुन कर पढ़ सकते हैं।

किंवदंतियों के अनुसार, मां दुर्गा ने स्वयं भगवान शिव को सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra) के पाठ की महिमा बताई थी।

देवी ने भगवान शिव को बताया कि कैसे सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra) भक्तों की इच्छाओं को पूरा करने और जीवन के सभी पहलुओं में महान ऊंचाइयों तक पहुंचने में मदद करेगा।

भगवान और देवी माँ की उपासना हमारे भारतीय संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है। विभिन्न देवी-देवताओं की पूजा दिन-प्रतिदिन लाखों लोगों द्वारा की जाती है, और इसका उद्देश्य शुभता, सुख, और शांति का आनंद लेना है।

आराधना कई तरीकों से की जा सकती है, और इसके लिए विभिन्न स्तोत्र, मंत्र, और जाप का मुख्यतः उपयोग किया जाता है।

सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra) का पाठ करने के लिए नवरात्रि सबसे अनुकूल समय है, हालांकि, इस अनुष्ठान को अन्य महीनों के मंगलवार, शुक्रवार या शनिवार को भी शुरू किया जा सकता है।

यहां तक ​​कि अष्टमी, नवमी या चतुर्दशी जैसी तिथियों को भी पाठ शुरू करने के लिए शुभ माना जाता है।

इस ब्लॉग पोस्ट में, हम आपको “सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra)” के महत्व और इसके पाठ के फायदे के बारे में बताएंगे। यह अद्भुत स्तोत्र मां दुर्गा की महिमा को व्यक्त करता है और हमें उनकी कृपा को प्राप्त करने का मार्ग दिखाता है।

सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra) का महत्व

“सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra)” महाकाव्य “दुर्गासप्तशती” का हिस्सा है, जिसमें मां दुर्गा की महिमा का वर्णन किया गया है।

यह स्तोत्र सप्तशती के सत्रहवें अध्याय से उत्सर्गित है और सात श्लोकों में मां दुर्गा के गुणों, महिमा, और प्राकट्य को चित्रित करता है।

सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra) का पाठ करने से हम जीवन में नई ऊर्जा, साहस, और संजीवनी शक्ति का आभास करते हैं। यह स्तोत्र हमारे मानसिक और आत्मिक स्वास्थ्य को सुधारता है और हमारे जीवन को बदल सकता है।

सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra) के लाभ

  • मां दुर्गा की कृपा प्राप्ति: सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र का पाठ करने से मां दुर्गा की कृपा प्राप्त होती है, जिससे हमारे जीवन में शुभता और सफलता आती है।
  • रोग और दुखों से मुक्ति: यह स्तोत्र रोगों और दुखों से मुक्ति प्रदान करता है और हमें स्वस्थ और प्रसन्तापूर्ण जीवन जीने में मदद करता है।
  • मानसिक शांति: सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र का पाठ करने से मानसिक तनाव कम होता है और हमारी मानसिक शांति बनी रहती है।
  • संजीवनी शक्ति: इस स्तोत्र का पाठ करने से हमारे शारीरिक और मानसिक शक्ति में वृद्धि होती है, जिससे हम अपने लक्ष्यों को पूरा करने में सक्षम होते हैं।
  • धार्मिक महत्व: सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र का पाठ धार्मिक दृष्टिकोण से भी महत्वपूर्ण है, और यह हमें देवी की भक्ति में मग्न होने में मदद करता है।

सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र के अन्य लाभ (More Benefits of Saptashloki Durga Stotra)

आदि पराशक्ति के रूप में पूजी जाने वाली देवी दुर्गा एक योद्धा देवी हैं। दुर्गा नाम दुर का अर्थ कठिन और गम अर्थ (पास, गुजरना) के एकीकरण से आया है।

Saptashloki Durga Stotra (सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र) का जाप करने से आपको अर्थ, काम, धर्म और मोक्ष जैसे सभी रूपों में लाभ हो सकता है।

माँ दुर्गा आपको निडर, जीवंत और सुखी जीवन प्रदान करेंगी। हर समस्या से निकलने का एक तरीका होता है।

उदाहरण के लिए, Saptashloki Durga Stotra (सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र) के 12 पाठों का जाप करने से पति-पत्नी के बीच की समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है।

सम्पूर्ण सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra)

आप इस स्क्रीन को खींच कर बड़ा कर सकते हैं

onehindudharma
onehindudharma

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें – Rin Mochan Mangal Stotra (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र)

निष्कर्ष

“सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra)” मां दुर्गा की महिमा को गाने और उनकी कृपा को प्राप्त करने का अद्भुत माध्यम है। यह स्तोत्र हमें नई ऊर्जा और साहस प्रदान करता है और हमारे जीवन को सफलता की ओर बढ़ने में मदद करता है।

सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra) नियमित पाठ करके हम मां दुर्गा के आशीर्वाद को प्राप्त कर सकते हैं और अपने जीवन को सुखमय और समृद्धि से भर सकते हैं।

जय मां दुर्गा!

सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्र (Saptashloki Durga Stotra Lyrics In Sanskrit) PDF Download

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page