Rin Mochan Mangal Stotra (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र) Lyrics


Rin Mochan Mangal Stotra (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र) Lyrics

इस महँगे युग में एक बहुत ही आम समस्या वास्तव में पैसे बचाने की समस्या है और इसलिए अधिकतम लोग अपनी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

धन इस भौतिक संसार का देवता है और इसलिए हमारी जरूरतों को पूरा करने और अपने आप को सफल बनाने के लिए इसका होना बहुत जरूरी है। प्रतिस्पर्धा, मंहगाई, अवांछित खर्चों के कारण इस उम्र में पैसा कमाना और उसे बचाना बहुत मुश्किल है।

कुछ के पास जरूरत से ज्यादा है तो कुछ अपनी बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए भी संघर्ष कर रहे हैं। यह हर जगह देखी जाने वाली त्रासदी है।

Rin Mochan Mangal Stotra (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र) एक बहुत ही खास स्तोत्र है जो स्कंद पुराण में दिया गया है। अगर आप बड़े कर्ज में डूबे हुए हैं और इससे परेशान हैं तो यह स्तोत्र आपके लिए है।

What is Rin Mochan Mangal Stotra (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र क्या है)?

शक्ति, संपत्ति, समृद्धि, साहस, क्रोध और सफलता पर नियंत्रण रखने वाले भगवान मंगल से प्रार्थना करने के लिए रिनमोचन मंगल स्तोत्रम एक विशेष तरीका है। ऐसी मान्यता है कि Rin Mochan Mangal Stotra (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र) का नित्य प्रतिदिन पाठ करने से सफलता के मार्ग खुल सकते हैं।

Rin Mochan Mangal Stotra (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र) Lyrics

Benefits of Rin Mochan Mangal Stotra (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र के लाभ)

श्री Rin Mochan Mangal Stotra (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र) का नियमित रूप से जाप करने से व्यक्ति को अपने कर्ज से छुटकारा मिल सकता है। इस स्तोत्र का जाप करने वाले भक्तों पर हनुमान जी की कृपा बनी रहती है। जो भक्त इस श्री रिनमोचन मंगल स्तोत्र का नियमित जप करते हैं, वे भगवान का आशीर्वाद प्राप्त करने के बाद कर्ज लेने से खुद को बचा सकते हैं।

  • Rin Mochan Mangal Stotra (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र) का प्रतिदिन पाठ करने से व्यक्ति कर्ज से मुक्त हो जाता है।
  • भगवान मंगल की कृपा से कमाई में रुकावट आसानी से दूर हो जाती है।
  • व्यक्ति में काम करने और सफलतापूर्वक कमाने की शक्ति विकसित होती है।
  • इस Rin Mochan Mangal Stotra (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र) का प्रतिदिन पाठ करने से व्यक्ति संतोषजनक मौद्रिक शक्ति प्राप्त करके सफल जीवन जीता है।
  • यह कूज दोष या मांगलिक दोष को कम करने में मदद करता है।
  • यह मंगल के अशुभ प्रभावों को दूर करने में मदद करता है।

Rin Mochan Mangal Stotra (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र)

मङ्गलो भूमिपुत्रश्च ऋणहर्ता धनप्रदः।
स्थिरासनो महाकायः सर्वकर्मविरोधकः ॥१॥

लोहितो लोहिताक्षश्च सामगानां कृपाकरः।
धरात्मजः कुजो भौमो भूतिदो भूमिनन्दनः॥२॥

अङ्गारको यमश्चैव सर्वरोगापहारकः।
व्रुष्टेः कर्ताऽपहर्ता च सर्वकामफलप्रदः॥३॥

एतानि कुजनामानि नित्यं यः श्रद्धया पठेत्।
ऋणं न जायते तस्य धनं शीघ्रमवाप्नुयात्॥४॥

धरणीगर्भसम्भूतं विद्युत्कान्तिसमप्रभम्।
कुमारं शक्तिहस्तं च मङ्गलं प्रणमाम्यहम्॥५॥

स्तोत्रमङ्गारकस्यैतत्पठनीयं सदा नृभिः।
न तेषां भौमजा पीडा स्वल्पाऽपि भवति क्वचित्॥६॥

अङ्गारक महाभाग भगवन्भक्तवत्सल।
त्वां नमामि ममाशेषमृणमाशु विनाशय॥७॥

ऋणरोगादिदारिघ्र्यं ये चान्ये ह्यपमृत्यवः।
भयक्लेशमनस्तापा नश्यन्तु मम सर्वदा॥८॥

अतिवक्त्र दुरारार्ध्य भोगमुक्त जितात्मनः।
तुष्टो ददासि साम्राज्यं रुश्टो हरसि तत्क्षणात्॥९॥

विरिंचिशक्रविष्णूनां मनुष्याणां तु का कथा।
तेन त्वं सर्वसत्त्वेन ग्रहराजो महाबलः॥१०॥

पुत्रान्देहि धनं देहि त्वामस्मि शरणं गतः।
ऋणदारिद्रयदुःखेन शत्रूणां च भयात्ततः॥११॥

एभिर्द्वादशभिः श्लोकैर्यः स्तौति च धरासुतम्।
महतिं श्रियमाप्नोति ह्यपरो धनदो युवा॥१२॥

इति श्रीस्कन्दपुराणे भार्गवप्रोक्तं ऋणमोचक मङ्गलस्तोत्रम् सम्पूर्णम् |

Rin Mochan Mangal Stotra Lyrics PDF Download (ऋण मोचन मंगल स्तोत्र)


onehindudharma.org

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Ganpati Stotra (गणपति स्तोत्र) In Marathi

Leave a Comment

आज का पंचांग जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें। 👉

X
You cannot copy content of this page