आज का पंचांग, आरती, चालीसा, व्रत कथा, स्तोत्र, भजन, मंत्र और हिन्दू धर्म से जुड़े धार्मिक लेखों को सीधा अपने फ़ोन में प्राप्त करें।
इस 👉 टेलीग्राम ग्रुप 👈 से जुड़ें!

Skip to content

Mahalaxmi Aarti (महालक्ष्मी जी की आरती) Lyrics

Mahalaxmi Vrat Katha (महालक्ष्मी व्रत कथा) In Hindi Mahalaxmi Aarti (महालक्ष्मी जी की आरती) Lyrics

आज का पंचांग जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें।
👉 पंचांग

Mahalaxmi Aarti (महालक्ष्मी जी की आरती) Lyrics

देवी महालक्ष्मी भगवान विष्णु की दिव्य पत्नी हैं, और धन की देवी हैं। जो इनकी पूजा करता है, उसे धन की प्राप्ति होती है। पुराणों के अनुसार, देवी लक्ष्मी समुंद्र मंथन के दौरान समुद्र से निकलीं, और भगवान विष्णु को अपने आदर्श पति के रूप में चुना।

देवी महालक्ष्मी भी उनके कई अवतारों या अवतारों में भगवान विष्णु के साथ थीं। सीता और राधा की तरह, जब भगवान विष्णु ने भगवान राम और भगवान कृष्ण के अवतार में जन्म लिया।

देवी महालक्ष्मी की छवि हमेशा चार हाथों की होती है, कमल पर बैठी या खड़ी होती है। उन्हें एक अत्यंत सुंदर देवी के रूप में चित्रित किया गया है, जिसके दो दिव्य हाथों में कमल के फूल या कलश हैं और अन्य दो आशीर्वाद की मुद्रा में सोने के सिक्कों के रूप में भाग्य प्रदान करते हैं। उल्लू देवी महालक्ष्मी का वाहन है।

Mahalaxmi Vrat Katha (महालक्ष्मी व्रत कथा) के बाद Mahalaxmi Aarti (महालक्ष्मी जी की आरती) करनी चाइये।

Benefits of Mahalaxmi Aarti (महालक्ष्मी जी की आरती के लाभ)

महालक्ष्मी व्रत, Mahalaxmi Vrat Katha (महालक्ष्मी व्रत कथा) का पाठ और Mahalaxmi Aarti (महालक्ष्मी जी की आरती) हिंदू पुरुषों और महिलाओं द्वारा मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण उपवास दिवस है। इस पवित्र व्रत की महिमा भगवान श्रीकृष्ण ने पांडव भाइयों में सबसे बड़े राजा युधिष्ठिर को बताई थी। महालक्ष्मी व्रत की महानता ‘भविष्य पुराण’ जैसे धार्मिक ग्रंथों में भी वर्णित है।

महालक्ष्मी व्रत देवी लक्ष्मी के सम्मान में मनाया जाता है, जो भगवान विष्णु की पत्नी हैं और उन्हें मां शक्ति का एक रूप भी माना जाता है। पवित्र व्रत भाद्रपद शुक्ल अष्टमी से शुरू होता है जिसे राधा अष्टमी के रूप में भी मनाया जाता है, जो देवी राधा (भगवान कृष्ण की साथी) का जन्मदिन है।

यह दिन इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह दूर्वा अष्टमी से मेल खाता है जिसमें दूर्वा घास की पूजा की जाती है। इसके अलावा उसी दिन को ‘ज्येष्ठा देवी पूजा’ के रूप में भी मनाया जाता है और तीन दिनों तक जारी रहता है। महालक्ष्मी व्रत और Mahalaxmi Vrat Katha (महालक्ष्मी व्रत कथा) का पाठ करने के बाद Mahalaxmi Aarti (महालक्ष्मी जी की आरती) करने वाले को जीवन भर देवी लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Mahalaxmi Vrat Katha (महालक्ष्मी व्रत कथा) In Hindi
Mahalaxmi Vrat Katha (महालक्ष्मी व्रत कथा) In Hindi

Mahalaxmi Aarti (महालक्ष्मी जी की आरती)

|| महालक्ष्मी जी की आरती ||

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता ।
तुमको निस दिन सेवत हर-विष्णु-धाता ॥ॐ जय…||

उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता ।
सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता ॥ॐ जय…||

तुम पाताल-निरंजनि, सुख-सम्पत्ति-दाता ।
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि-धन पाता ॥ॐ जय…||

तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता ।
कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनि, भवनिधि की त्राता ॥ॐ जय…||

जिस घर तुम रहती, तहँ सब सद्गुण आता ।
सब सम्भव हो जाता, मन नहिं घबराता ॥ॐ जय…||

तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न हो पाता ।
खान-पान का वैभव सब तुमसे आता ॥ॐ जय…||

शुभ-गुण-मंदिर सुन्दर, क्षीरोदधि-जाता ।
रत्न चतुर्दश तुम बिन कोई नहिं पाता ॥ॐ जय…||

महालक्ष्मीजी की आरती, जो कई नर गाता ।
उर आनन्द समाता, पाप शमन हो जाता ॥ॐ जय…||

Mahalaxmi Aarti (महालक्ष्मी जी की आरती) Lyrics PDF Download


onehindudharma.org

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Ekadashi Aarti (एकादशी आरती) Lyrics

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page