Mahakal Stotra (महाकाल स्तोत्र) Lyrics


Mahakal Stotra (महाकाल स्तोत्र) Lyrics

Mahakal Stotra (महाकाल स्तोत्र) का वर्णन स्वयं भगवान महाकाल ने देवी भैरवी को किया था। महाकाल स्तोत्र की महिमा अद्भुत है। Mahakal Stotra (महाकाल स्तोत्र) में भगवान महाकाल के विभिन्न नामों का वर्णन है। यह शिव भक्तों के लिए वरदान है। महाकाल स्तोत्र के जाप से साधक अपने मन में शक्ति तत्वों और प्रसन्नता का अनुभव कर सकता है।

“काल” का अर्थ मृत्यु नहीं है; काल जीवन को एक क्षण में पूर्णता प्रदान कर सकता है, एक क्षण में ही सफलता प्रदान कर सकता है। इस दुनिया में कोई भी साधना महाकाल साधना से श्रेष्ठ नहीं है। यह सर्वोत्तम साधना अभ्यास है, सबसे बड़ी साधना है।

यह शरीर निश्चित रूप से समाप्त होगा, और मृत्यु इसे एक दिन खा लेगी। यह आपके जीवन का अंतिम परिणाम है। इस भाग्य से बचने के लिए आपको महाकाल साधना का अभ्यास करना होगा।

Daridra Dahan Stotra (दारिद्र्य दहन स्तोत्र) Lyrics Mahakal Stotra (महाकाल स्तोत्र)

भगवान शिव, जिन्हें उनके भक्त विभिन्न नामों से पुकारते हैं, कोई उन्हें महादेव कहते हैं, तो कोई उन्हें भोलानाथ कहते हैं, किसी के लिए वे स्वयं ब्रह्मांड हैं, तो कोई उन्हें विनाशक कहता है।

भगवान शिव के विभिन्न रूप हैं और वे सभी अपने भक्तों द्वारा पूजनीय हैं। शिव को साधना प्रणाली का जनक भी कहा जाता है, इसलिए कोई भी व्यवस्थित ध्यान इनके बिना अधूरा है।

Benefits of Mahakal Stotra (महाकाल स्तोत्र के लाभ)

भगवान शिव की आराधना से मानव जीवन की बड़ी से बड़ी समस्या भी दूर हो सकती है। भगवान शिव का एक रूप महाकाल का भी है। जो व्यक्ति नियमित रूप से Mahakal Stotra (महाकाल स्तोत्र) का पाठ करता है उसे भगवान महाकाल की कृपा प्राप्त होती है और वह अकाल मृत्यु से बच सकता है।

Mahakal Stotra (महाकाल स्तोत्र) को सर्वश्रेष्ठ स्तोत्र कहा जाता है क्योंकि यह जीवन के भीतर की कमियों को दूर करने के लिए निश्चित समाधान प्रदान करता है – धन, प्रतिष्ठा, सम्मान, पद, पदोन्नति, व्यवसाय, परिवार, वैवाहिक, बच्चे, दुश्मन, विवाह में देरी, अदालत, घर, संपत्ति, आदि। महाकाल स्तोत्र एक संभावित समाधान के बजाय एक निश्चित समाधान प्रदान करता है।

Mahakal Stotra (महाकाल स्तोत्र)

॥ श्री महाकाल स्तोत्रम् ॥

ॐ महाकाल महाकाय महाकाल जगत्पते ।
महाकाल महायोगिन् महाकाल नमोऽस्तु ते ॥ १॥

महाकाल महादेव महाकाल महाप्रभो ।
महाकाल महारुद्र महाकाल नमोऽस्तु ते ॥ २॥

महाकाल महाज्ञान महाकाल तमोऽपहन् ।
महाकाल महाकाल महाकाल नमोऽस्तु ते ॥ ३॥

भवाय च नमस्तुभ्यं शर्वाय च नमो नमः ।
रुद्राय च नमस्तुभ्यं पशूनां पतये नमः ॥ ४॥

उग्राय च नमस्तुभ्यं महादेवाय वै नमः ।
भीमाय च नमस्तुभ्यं ईशानाय नमो नमः ॥ ५॥

ईश्वराय नमस्तुभ्यं तत्पुरुषाय वै नमः ॥ ६॥

सद्योजात नमस्तुभ्यं शुक्लवर्ण नमो नमः ।
अधः कालाग्निरुद्राय रुद्ररूपाय वै नमः ॥ ७॥

स्थित्युत्पत्तिलयानां च हेतुरूपाय वै नमः ।
परमेश्वररूपस्त्वं नील एवं नमोऽस्तु ते ॥ ८॥

पवनाय नमस्तुभ्यं हुताशन नमोऽस्तु ते ।
सोमरूप नमस्तुभ्यं सूर्यरूप नमोऽस्तु ते ॥ ९॥

यजमान नमस्तुभ्यं आकाशाय नमो नमः ।
सर्वरूप नमस्तुभ्यं विश्वरूप नमोऽस्तु ते ॥ १०॥

ब्रह्मरूप नमस्तुभ्यं विष्णुरूप नमोऽस्तु ते ।
रुद्ररूप नमस्तुभ्यं महाकाल नमोऽस्तु ते ॥ ११॥

स्थावराय नमस्तुभ्यं जङ्गमाय नमो नमः ।
नमः स्थावरजङ्गमाभ्यां शाश्वताय नमो नमः ॥ १२॥

हुं हुङ्कार नमस्तुभ्यं निष्कलाय नमो नमः ।
अनाद्यन्त महाकाल निर्गुणाय नमो नमः ॥ १३॥

प्रसीद मे नमो नित्यं मेघवर्ण नमोऽस्तु ते ।
प्रसीद मे महेशान दिग्वासाय नमो नमः ॥ १४॥

ॐ ह्रीं मायास्वरूपाय सच्चिदानन्दतेजसे ।
स्वाहा सम्पूर्णमन्त्राय सोऽहं हंसाय ते नमः ॥ १५॥

॥ फलश्रुति ॥

इत्येवं देव देवस्य महाकालस्य भैरवि ।
कीर्तितं पूजनं सम्यक् साधकानां सुखावहम् ॥ १६॥

॥ श्रीमहाकाल स्तोत्रम् अथवा श्रीमहाकालभैरव स्तोत्रं सम्पूर्णम् ॥

Mahakal Stotra (महाकाल स्तोत्र) Lyrics PDF Download


onehindudharma.org

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Swami Samarth Stotra (स्वामी समर्थ स्तोत्र) Lyrics In Marathi And Sanskrit

Leave a Comment

आज का पंचांग जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें। 👉

X
You cannot copy content of this page