आज का पंचांग, आरती, चालीसा, व्रत कथा, स्तोत्र, भजन, मंत्र और हिन्दू धर्म से जुड़े धार्मिक लेखों को सीधा अपने फ़ोन में प्राप्त करें।
इस 👉 टेलीग्राम ग्रुप 👈 से जुड़ें!

Skip to content

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत कब है? (Krishna Janmashtami Fasting Date 2023)

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत कब है (Krishna Janmashtami Fasting Date 2023)

आज का पंचांग जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें।
👉 पंचांग

इस लेख में, हम जानेंगे कि श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत (Krishna Janmashtami Fasting Date 2023) का आयोजन कब है और इसे कैसे मनाया जा सकता है।

भगवान श्री कृष्ण के जन्म के आदर्श और आध्यात्मिक महत्व को मनाने के लिए पूरे देश में हर साल श्री कृष्ण जन्माष्टमी का उत्सव धूमधाम से मनाया जाता है।

यह उत्सव हिन्दू पंचांग के आधार पर हर वर्ष आवश्यक तिथियों पर मनाया जाता है और यह भगवान कृष्ण के अवतरण की महिमा को याद करने का अवसर हमें प्रदान करता है।

इसी तरह श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत (Krishna Janmashtami Fasting Date 2023) का पालन भी हिन्दू पंचांग के अनुसार ही किया जाएगा।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत का महत्व (Krishna Janmashtami Fasting Date 2023 Importance)

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत (Krishna Janmashtami Fasting Date 2023) का महत्व अत्यधिक है, क्योंकि इस दिन भगवान श्री कृष्ण के जन्म के शुभ दिन को मनाया जाता है। भगवान कृष्ण का जन्म मथुरा में हुआ था और उनका लालन पालन वृन्दावन में हुआ था।

उनकी बचपन की कथाएँ भक्तों के बीच बहुत प्रिय हैं। व्रत के द्वारा भगवान कृष्ण की पूजा और उनके प्रति समर्पण किया जाता है और उनकी मनोहर लीलाओं को याद किया जाता है।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत तिथि (Krishna Janmashtami Fasting Date 2023)

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत (Krishna Janmashtami Fasting) बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जायेगा।

जन्माष्टमी का पर्व आप चाहे 7 सितंबर को मनाएं, लेकिन महत्वपूर्ण है कि 6 सितंबर की रात को भगवान कृष्ण का अभिषेक निश्चित रूप से किया जाए।

6 सितंबर की रात को 11 बजे से 1 बजे के बीच, पांच विशेष योग एक साथ संगठित हो रहे हैं, जो 5249 साल पहले भगवान कृष्ण के अवतार के समय बने थे।

5249 साल पहले यह महत्वपूर्ण घटना भी बुधवार के दिन ही घटित हुई थी। उस दिन भी अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र थे, साथ ही हर्षण और करण योग का संयोग भी बना था।

इसके अलावा ३० साल पहले ऐसे योग बने थे और अब 30 साल बाद फिर से इन पांच योगों का मिलन हो रहा है। इसे “जयंती योग” कहा जाता है।

इस समय के दौरान, भगवान का अभिषेक पंचामृत से करने का अति सुन्दर फल मिलता है। जन्माष्टमी का व्रत और अन्य उत्सव 7 सितंबर को मनाए जा सकते हैं।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत कब है (Krishna Janmashtami Fasting Date 2023)

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत मुहूर्त (Krishna Janmashtami Fasting Date 2023 Muhurta)

6 सितंबर को 3:38 PM पर, भाद्रपद शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि का प्रारंभ होगा, जो 7 सितंबर को 4:15 PM तक जारी रहेगी।

इसी बीच, रोहिणी नक्षत्र का आरम्भ 6 सितंबर को 9:20 AM को होगा और इसका समापन 7 सितंबर को 10:25 AM को होगा।

इसी दिन अष्टमी तिथि, रोहिणी नक्षत्र, और बुधवार का शुभ संयोग एकसाथ है, इसलिए आम लोग या गृहस्थ आश्रम वाले 6 सितंबर को जन्माष्टमी का व्रत रखने को शुभ समझते हैं।

वहीं, शास्त्रों के अनुसार, 7 सितंबर को वैष्णव संप्रदाय के लोग जन्माष्टमी का व्रत करेंगे। 7 सितंबर को भगवन श्री कृष्ण की पूजा करने के बाद व्रत का पारण किया जाएगा।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत (Krishna Janmashtami Fasting) का आयोजन

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत (Krishna Janmashtami Fasting Date 2023) को ज़्यादातर लोग 6 या 7 तारिख को मनाएंगे। यह आवश्यक है कि व्रत का आयोजन ध्यानपूर्वक और श्रद्धापूर्वक हो।

  • व्रत की शुरुआत: व्रत की शुरुआत सुबह ब्रह्मा मुहूर्त में की जाती है। व्रत करने वाले व्यक्ति को नाहा धोकर शुद्ध होना चाहिए और श्री कृष्ण के ध्यान में बैठना चाहिए।
  • फलाहार: व्रत के दिन सिर्फ फलहार का ही सेवन करें।
  • कथा कथन: श्री कृष्ण जन्माष्टमी के दिन भगवान कृष्ण की कथा का पाठ किया जाता है, जिसमें उनके जीवन की महत्वपूर्ण घटनाएं सुनाई जाती हैं।
  • पूजा: भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति की पूजा करना व्रत का महत्वपूर्ण हिस्सा है। इसमें धूप, दीप, फल, फूल, और प्रसाद शामिल होते हैं।
  • जागरण और कीर्तन: श्री कृष्ण जन्माष्टमी की रात को भक्तगण जागरण करते हैं, जिसमें भजन, कीर्तन, और गीत गाए जाते हैं।

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें – कृष्ण जन्माष्टमी (Krishna Janmashtami): भगवान श्रीकृष्ण के आविर्भाव की महिमा

निष्कर्ष

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2023 (Krishna Janmashtami) एक महत्वपूर्ण आध्यात्मिक आयोजन है जिसमें भगवान कृष्ण के जन्म की महिमा को याद किया जाता है।

यह उत्सव भक्तों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है और उन्हें अपने आध्यात्मिक जीवन को सुधारने का मौका प्रदान करता है।

इस दिन श्री कृष्ण के भक्त कृष्ण जन्माष्टमी 2023 व्रत (Krishna Janmashtami Fasting Date 2023) का पालन करेंगे, अगर आप से व्रत हो सके तो इसे आपको करना चाहिए।

इस श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर, हम सभी को भगवान कृष्ण की शरण में जाना चाहिए और उनकी कृपा को प्राप्त करने का प्रयास करना चाहिए।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी की आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाएं !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page