Kalbhairav Stotra (कालभैरव स्तोत्र) Lyrics


Kalbhairav Stotra (कालभैरव स्तोत्र) Lyrics

भगवान शिव के कई रूप और अवतार हैं (भौतिक शरीर के रूप में एक देवता की अभिव्यक्ति)। यद्यपि उनका मूल तपस्वी रूप व्यापक रूप से पूजनीय है, उनके पशुपतिनाथ और विश्वनाथ अवतार भी काफी प्रसिद्ध हैं।

लेकिन, भगवान शिव के सबसे भयानक अवतारों में से एक कालभैरव हैं। शिव के इस रूप को नग्न, काला, खोपड़ियों की एक माला, तीन आंखों, उनके चार हाथों में विनाश के हथियार, और सांपों से बंधा हुआ दिखाया गया है।

तो, कालभैरव वह है जो न तो पिछला कल है और न ही आने वाला कल। वह अब में हमेशा मौजूद है। साथ ही, भगवान कालभैरव काशी शहर के स्वामी हैं। इसका एक प्रतीकात्मक अर्थ भी है। तंत्र में काशी को आज्ञा चक्र के रूप में पहचाना जाता है, जो भौहों के बीच स्थित होता है।

Kalbhairav Stotra (कालभैरव स्तोत्र)

कालभैरव का चित्रण विक्राल (बड़ा और डरावना) है। इसका मतलब है कि समय सब कुछ खा जाता है। इस दुनिया में जो कुछ भी मौजूद है वह समय के साथ विलीन हो जाएगा और नष्ट हो जाएगा। हजारों साल पहले यहां जो राजा और साम्राज्य थे, जो चमत्कार अभी मौजूद हैं, और जो कुछ भी भविष्य में आएगा – वे सभी समय के साथ नष्ट हो जाएंगे।

और समय कहाँ है? यह अतीत या भविष्य में नहीं है। यह अभी है। और जब समय और वर्तमान क्षण का यह अहसास आता है, तो हमारा आज्ञा चक्र (हमारे शरीर में ज्ञान का स्थान) ऊंचा हो जाता है, जो हमारे अंदर भगवान कालभैरव की उपस्थिति का प्रतीक है। यह हमें समाधि (ध्यान) की सबसे गहरी अवस्था की ओर ले जाता है जिसे भैरव की अवस्था भी कहा जाता है।

Benefits of Kalbhairav Stotra (कालभैरव स्तोत्र के लाभ)

भगवान कालभैरव अहंकार को नियंत्रण में रखने में मदद करते हैं। वह दयालु हैं और आसानी से अपने भक्तों को धन और समृद्धि प्रदान करते हैं।

Kalbhairav Stotra (कालभैरव स्तोत्र) का प्रतिदिन पाठ करने से जीवन और मुक्ति का ज्ञान होता है। यह मोह और मोह से मुक्ति देता है, जो दुख, लोभ, दरिद्रता, क्रोध और पीड़ा का कारण है। भगवान कालभैरव पंच भूतों या पांच तत्वों- पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश के स्वामी हैं। भगवान जीवन में हर तरह की उत्कृष्टता और वह ज्ञान देते हैं जो हम चाहते हैं।

कालभैरव की पूजा करके, हम उस आनंद को प्राप्त कर सकते हैं जो समाधि की सबसे गहरी अवस्था के साथ होता है, जहाँ सभी चिंताएँ विस्मृत हो जाती हैं।

Kalbhairav Stotra (कालभैरव स्तोत्र)

श्री काल भैरव स्तोत्र ||

नमो भैरवदेवाय नित्ययानंदमूर्तये ।
विधिशास्त्रान्तमार्गाय वेदशास्त्रार्थदर्शिने ।।1।।

दिगंबराय कालाय नमः खट्वांगधारिणे ।
विभूतिविलसद्भालनेत्रायार्धेंदुमालने ।।2।।

कुमारप्रभवे तुभ्यं बटुकायमहात्मने ।
नमोsचिंत्यप्रभावाय त्रिशूलायुधधारिणे ।।3।।

नमः खड्गमहाधारहृत त्रैलोक्य भीतये ।
पूरितविश्वविश्वाय विश्वपालाय ते नमः ।।4।।

भूतावासाय भूताय भूतानां पतये नम ।
अष्टमूर्ते नमस्तुभ्यं कालकालाय ते नमः ।।5।।

कं कालायातिघोराय क्षेत्रपालाय कामिने ।
कलाकाष्टादिरूपाय कालाय क्षेत्रवासिने ।।6।।

नमः क्षेत्रजिते तुभ्यं विराजे ज्ञानशालने ।
विद्यानां गुरवे तुभ्यं विधिनां पतये नमः ।।7।।

नमः प्रपंचदोर्दंड दैत्यदर्प विनाशने ।
निजभक्त जनोद्दाम हर्ष प्रवर दायिने ।।8।।

नमो जंभारिमुख्याय नामैश्वर्याष्टदायिने ।
अनंत दुःख संसार पारावारान्तदर्शिने ।।9।।

नमो जंभाय मोहाय द्वेषायोच्याटकारिणे ।
वशंकराय राजन्यमौलन्यस्त निजांध्रये ।।10।।

नमो भक्तापदां हंत्रे स्मृतिमात्रार्थ दर्शिने ।
आनंदमूर्तये तुभ्यं श्मशाननिलयाय् ते ।।11।।

वेतालभूतकूष्मांड ग्रह सेवा विलासिने ।
दिगंबराय महते पिशाचाकृतिशालने ।।12।।

नमोब्रह्मादिभर्वंद्य पदरेणुवरायुषे ।
ब्रह्मादिग्रासदक्षाय निःफलाय नमो नमः ।।13।।

नमः काशीनिवासाय नमो दण्डकवासिने ।
नमोsनंत प्रबोधाय भैरवाय नमोनमः ।।14।।

श्री कालभैरव स्तोत्र संपूर्णम् ॥ श्री कालभैरवार्पणंsस्तु ॥ शुभं भवतु ॥

Kalbhairav Stotra (कालभैरव स्तोत्र) Lyrics PDF Download


onehindudharma.org

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Daridra Dahan Stotra (दारिद्र्य दहन स्तोत्र)

Leave a Comment

आज का पंचांग जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें। 👉

X
You cannot copy content of this page