Hanuman Vadvanal Stotra (हनुमान वडवानल स्तोत्र) Lyrics


Hanuman Vadvanal Stotra (हनुमान वडवानल स्तोत्र) Lyrics

हनुमानजी भगवान शिव के अवतार हैं। भगवान हनुमान का दूसरा नाम रौद्रेय या रुद्र हनुमान है, जो भगवान शिव या रुद्र के अवतार हैं। राजस्थान के सालासर और मेहंदीपुर धाम में भगवान हनुमान के विशाल और भव्य मंदिर हैं। हनुमान जी और सूर्यदेव एक दूसरे के रूप हैं, इनकी आपसी मित्रता बहुत मजबूत मानी जाती है।

इसलिए हनुमान जी की पूजा करने वाले साधकों में आत्मविश्वास, ओज, कुशाग्रता आदि सूर्य तत्वों की कृपा होती है। हनुमान जी को संकटमोचन कहा जाता है क्योंकि वे हर संकट का समाधान करते हैं। इसलिए जब भी कोई व्यक्ति संकट में होता है तो सबसे पहले बजरंगबली का ही स्मरण किया जाता है। श्री हनुमान पूजा और यज्ञ करने से सभी कष्टों से मुक्ति मिल सकती है।

Hanuman Vadvanal Stotra (हनुमान वडवानल स्तोत्र) Lyrics

बुराई के खिलाफ जीत हासिल करने और सुरक्षा प्रदान करने के लिए भगवान हनुमान की पूजा की जाती है। उनकी शक्ति, चपलता और वीरता के लिए उनकी पूजा की जाती है। भगवान हनुमान की पूजा ज्ञान, शारीरिक और मानसिक शक्ति, सत्यता, ईमानदारी, आत्म-बलिदान, विनय, निष्ठा और भगवान के प्रति गहन भक्ति प्राप्त करने के लिए भी की जाती है।

श्री हनुमान को भगवान राम ने अमरता (चिरंजीवी) का आशीर्वाद दिया था। उनकी पूजा से सभी 9 ग्रहों के दुष्प्रभाव दूर हो जाते हैं।

Benefits of Hanuman Vadvanal Stotra (हनुमान वडवानल स्तोत्र के लाभ)

Hanuman Vadvanal Stotra (हनुमान वडवानल स्तोत्र) के पाठ के लाभ:

  • ऐसा माना जाता है कि इससे जीन, भूत प्रेत, बैताल, डाकिनी साकिनी आदि दूर होते हैं।
  • बाधाओं को दूर करने के लिए।
  • भक्त को निडरता और आत्मविश्वास का आशीर्वाद देता है।
  • विभिन्न रोगों से बचाव और राहत के लिए।
  • भक्ति योग चुनने वाले भक्तों को अष्ट सिद्धियां और नवनिधि प्रदान करना।
  • ज्ञान, शिक्षा और विवेक के लिए।
  • सभी ग्रहों के दोषों को दूर करने के लिए।
  • स्वास्थ्य, धन और समृद्धि को आकर्षित करता है।
  • किए गए किसी भी कार्य की सफलता के लिए।
  • भक्तों को दुर्भाग्य, खराब स्वास्थ्य और दुर्घटनाओं से सुरक्षा प्रदान करता है।
  • भगवान हनुमान की दिव्य कृपा और आशीर्वाद के लिए।
  • हनुमान वाद वन स्तोत्र का उपयोग शारीरिक शक्ति, शक्ति और सहनशक्ति को प्राप्त करने के लिए भी किया जाता है।
  • इस स्तोत्र का जाप करने से व्यक्ति सक्रिय हो जाता है और किसी भी कार्य को करने में आलस्य दूर हो जाता है।
  • मूलाधार चक्र को संतुलित करता है।

Hanuman Vadvanal Stotra (हनुमान वडवानल स्तोत्र)

श्री Hanuman Vadvanal Stotra (हनुमान वडवानल स्तोत्र) को रावण के भाई विभीषण ने गाया था। Hanuman Vadvanal Stotra (हनुमान वडवानल स्तोत्र) भगवान हनुमान को प्रसन्न करने और उनके दर्शन करने का एक शक्तिशाली मंत्र है। प्रारंभ में यह स्तोत्र भगवान हनुमान की उनके गुणों और जबरदस्त शक्ति की प्रशंसा के साथ शुरू होता है।

उपासक भगवान हनुमान से जीवन से सभी बीमारियों, खराब स्वास्थ्य और सभी प्रकार की परेशानियों को दूर करने का अनुरोध करते हैं। भगवान हनुमान अपने भक्तों को हर तरह के भय, परेशानी से बचाते हैं और उन्हें सभी बुरी चीजों से मुक्त करते हैं।

Hanuman Vadvanal Stotra (हनुमान वडवानल स्तोत्र) का नियमित पाठ करने से आपका कल्याण हो!

हनुमान वडवानल स्तोत्र (Hanuman Vadvanal Stotra) विनियोग

ॐ अस्य श्री हनुमान् वडवानल-स्तोत्र-मन्त्रस्य श्रीरामचन्द्र ऋषिः,
श्रीहनुमान् वडवानल देवता, ह्रां बीजम्, ह्रीं शक्तिं, सौं कीलकं,
मम समस्त विघ्न-दोष-निवारणार्थे, सर्व-शत्रुक्षयार्थे
सकल-राज-कुल-संमोहनार्थे, मम समस्त-रोग-प्रशमनार्थम्
आयुरारोग्यैश्वर्याऽभिवृद्धयर्थं समस्त-पाप-क्षयार्थं
श्रीसीतारामचन्द्र-प्रीत्यर्थं च हनुमद् वडवानल-स्तोत्र जपमहं करिष्ये।

हनुमान वडवानल स्तोत्र (Hanuman Vadvanal Stotra) ध्यान

मनोजवं मारुत-तुल्य-वेगं जितेन्द्रियं बुद्धिमतां वरिष्ठं।
वातात्मजं वानर-यूथ-मुख्यं श्रीरामदूतम् शरणं प्रपद्ये।।

ॐ ह्रां ह्रीं ॐ नमो भगवते श्रीमहा-हनुमते प्रकट-पराक्रम
सकल-दिङ्मण्डल-यशोवितान-धवलीकृत-जगत-त्रितय
वज्र-देह रुद्रावतार लंकापुरीदहय उमा-अर्गल-मंत्र
उदधि-बंधन दशशिरः कृतान्तक सीताश्वसन वायु-पुत्र
अञ्जनी-गर्भ-सम्भूत श्रीराम-लक्ष्मणानन्दकर कपि-सैन्य-प्राकार
सुग्रीव-साह्यकरण पर्वतोत्पाटन कुमार-ब्रह्मचारिन् गंभीरनाद
सर्व-पाप-ग्रह-वारण-सर्व-ज्वरोच्चाटन डाकिनी-शाकिनी-विध्वंसन
ॐ ह्रां ह्रीं ॐ नमो भगवते महावीर-वीराय सर्व-दुःख निवारणाय
ग्रह-मण्डल सर्व-भूत-मण्डल सर्व-पिशाच-मण्डलोच्चाटन
भूत-ज्वर-एकाहिक-ज्वर, द्वयाहिक-ज्वर, त्र्याहिक-ज्वर
चातुर्थिक-ज्वर, संताप-ज्वर, विषम-ज्वर, ताप-ज्वर,
माहेश्वर-वैष्णव-ज्वरान् छिन्दि-छिन्दि यक्ष ब्रह्म-राक्षस
भूत-प्रेत-पिशाचान् उच्चाटय-उच्चाटय स्वाहा।

ॐ ह्रां ह्रीं ॐ नमो भगवते श्रीमहा-हनुमते
ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूं ह्रैं ह्रौं ह्रः आं हां हां हां हां
ॐ सौं एहि एहि ॐ हं ॐ हं ॐ हं ॐ हं
ॐ नमो भगवते श्रीमहा-हनुमते श्रवण-चक्षुर्भूतानां
शाकिनी डाकिनीनां विषम-दुष्टानां सर्व-विषं हर हर
आकाश-भुवनं भेदय भेदय छेदय छेदय मारय मारय
शोषय शोषय मोहय मोहय ज्वालय ज्वालय
प्रहारय प्रहारय शकल-मायां भेदय भेदय स्वाहा।

ॐ ह्रां ह्रीं ॐ नमो भगवते महा-हनुमते सर्व-ग्रहोच्चाटन
परबलं क्षोभय क्षोभय सकल-बंधन मोक्षणं कुर-कुरु
शिरः-शूल गुल्म-शूल सर्व-शूलान्निर्मूलय निर्मूलय
नागपाशानन्त-वासुकि-तक्षक-कर्कोटकालियान्
यक्ष-कुल-जगत-रात्रिञ्चर-दिवाचर-सर्पान्निर्विषं कुरु-कुरु स्वाहा।

ॐ ह्रां ह्रीं ॐ नमो भगवते महा-हनुमते
राजभय चोरभय पर-मन्त्र-पर-यन्त्र-पर-तन्त्र
पर-विद्याश्छेदय छेदय सर्व-शत्रून्नासय
नाशय असाध्यं साधय साधय हुं फट् स्वाहा।

।। इति विभीषणकृतं हनुमद् वडवानल स्तोत्रं ।।

Hanuman Vadvanal Stotra (हनुमान वडवानल स्तोत्र) Lyrics PDF Download


onehindudharma.org

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Mahishasurmardini Stotra (महिषासुरमर्दिनी स्तोत्र)

Leave a Comment

आज का पंचांग जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें। 👉

X
You cannot copy content of this page