Hanuman Aarti (हनुमान आरती) Lyrics


Hanuman Aarti (हनुमान आरती) Lyrics

मंगलवार का दिन हनुमान जी को समर्पित है। भक्त इस दिन हनुमान चालीसा और भगवान हनुमान को समर्पित गीत भी सुनते हैं। मंगलवर व्रत भगवान हनुमान को समर्पित है। मंगल के सभी अशुभ प्रभावों को दूर करने के लिए मंगलवर व्रत, Mangalvar Vrat Katha (मंगलवार व्रत कथा) और Hanuman Aarti (हनुमान आरती) बहुत फायदेमंद है। लगातार 21 सप्ताह तक मंगलवर व्रत, Mangalvar Vrat Katha (मंगलवार व्रत कथा) और Hanuman Aarti (हनुमान आरती) करनी चाहिए।

इस दिन लाल रंग के वस्त्र धारण करने के साथ-साथ लाल फूलों से हनुमान जी की पूजा की जाती है। Mangalvar Vrat Katha (मंगलवार व्रत कथा) के साथ हनुमान चालीसा का पाठ भी किया जाता है। इस दिन भक्त गेहूं और गुड़ से बना भोजन ही खाते हैं। मंगलवर व्रत पेशेवर और व्यक्तिगत जीवन दोनों में सफलता, खुशी, सुरक्षा और स्थिरता की ओर ले जाता है। यह दुश्मनों पर काबू पाने में भी मदद करता है।

यह पूरे दिन का उपवास है। जो भक्त मंगलवर उपवास और Mangalvar Vrat Katha (मंगलवार व्रत कथा) करते हैं वे केवल एक बार भोजन करते हैं जिसमें आमतौर पर गेहूं और गुड़ से बना कोई भी भोजन होता है। अधिकांश हिंदू लगातार 21 मंगलवार का व्रत और Mangalvar Vrat Katha (मंगलवार व्रत कथा) रखते हैं। मंगलवर उपवास हनुमान और मंगल को संतुष्ट करने के लिए है, जो इस दिन शासन करते हैं।

मंगल को एक संकटमोचक माना जाता है और यह व्रत उन बुराइयों और समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है जो हमारे रास्ते को खराब करती हैं और खुशी का रास्ता बनाती हैं। अंतर्निहित मान्यता यह है कि भगवान हनुमान अपने भक्तों को जीवन में कठिनाइयों को दूर करने में मदद करेंगे, विशेष रूप से ‘मंगल ग्रह’ या मंगल के हस्तक्षेप से उत्पन्न। साथ ही पुत्र प्राप्ति की इच्छा रखने वाले दम्पति भी इस व्रत का पालन कठोरता से करते हैं।

Mangalvar Vrat Katha (मंगलवार व्रत कथा) के बाद Hanuman Aarti (हनुमान आरती) करनी चाइये।

Benefits of Hanuman Aarti (हनुमान आरती के लाभ)

मंगलवर व्रत और Mangalvar Vrat Katha (मंगलवार व्रत कथा) उन जोड़ों द्वारा किया जाता है जो पुत्र की कामना करते हैं। अन्य लाभों में परिवार में खुशी शामिल है। ज्योतिष में विश्वास रखने वाले लोग मंगल या मंगल ग्रह से जुड़े हानिकारक प्रभावों को कम करने के लिए उपवास रखते हैं।

इस व्रत को भूत-प्रेतादि बाधाओं से मुक्ति के लिये भी किया जाता है और व्रत वाले दिन व्रत की कथा अवश्य सुननी चाहिए। इस व्रत वाले दिन कभी भी नमक का प्रयोग नहीं करना चाहिए।

मंगलवार का व्रत, Mangalvar Vrat Katha (मंगलवार व्रत कथा) और Hanuman Aarti (हनुमान आरती) भगवान मंगल और पवनपुत्र हनुमानजी को प्रसन्न करने के लिये इस व्रत को किया जाता है। इस व्रत को लगातार 21 मंगलवार तक किया जाता है। इस व्रत को करने से मंगलग्रह की शान्ति होती है।

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Mangalvar Vrat Katha (मंगलवार व्रत कथा) In Hindi
Mangalvar Vrat Katha (मंगलवार व्रत कथा) In Hindi Hanuman Aarti (हनुमान आरती) Lyrics

Hanuman Aarti (हनुमान आरती)

|| हनुमान जी की आरती ||

आरती किजै हनुमान लला की |
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ||

जाके बल से गिरिवर काँपे |
रोग दोष जाके निकट ना झाँके ||

अंजनी पुत्र महा बलदाई |
संतन के प्रभु सदा सहाई ||

दे बीरा रघुनाथ पठाये |
लंका जारि सिया सुधी लाये ||

लंका सो कोट समुद्र सी खाई |
जात पवनसुत वार न लाई ||

लंका जारि असुर संहारे |
सियाराम जी के काज सँवारे ||

लक्ष्मण मुर्छित पड़े सकारे |
आनि संजिवन प्राण उबारे ||

पैठि पताल तोरि जम कारे|
अहिरावन की भुजा उखारे ||

बायें भुजा असुर दल मारे |
दाहीने भुजा सब संत जन उबारे ||

सुर नर मुनि जन आरती उतारे |
जय जय जय हनुमान उचारें ||

कचंन थार कपूर की बाती |
आरती करत अंजना माई ||

जो हनुमान जी की आरती गावैं |
बसहिं बैकुंठ परम पद पायै ||

लंका विध्वंश किये रघुराई |
तुलसीदास स्वामी किर्ती गाई ||

आरती किजै हनुमान लला की |
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ||

Hanuman Aarti Lyrics PDF Download (हनुमान आरती)


onehindudharma.org

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Santoshi Mata Aarti (संतोषी माता आरती) Lyrics

Leave a Comment

आज का पंचांग जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें। 👉

X
You cannot copy content of this page