Ekadashi Vrat Katha (एकादशी व्रत कथा) In Hindi


Ekadashi Vrat Katha (एकादशी व्रत कथा) In Hindi

हिंदू शास्त्रों के अनुसार, एकादशी शब्द दो शब्दों से बना है जो एक (1) और दशम (10) हैं। दस इन्द्रियों और मन की क्रियाओं को सांसारिक वस्तुओं से ईश्वर में बदलना ही सच्ची एकादशी है।

एकादशी का मतलब है कि हमें अपनी 10 इंद्रियों और 1 मन को नियंत्रित करना चाहिए। काम, क्रोध, लोभ आदि के दुष्परिणामों को मन में नहीं आने देना चाहिए।

एकादशी एक तपस्या है जिसे केवल भगवान श्री विष्णु जी की पूजा करने और उन्हें प्रसन्न करने के लिए किया जाना चाहिए।

यदि हम इंद्रियों और मन को भौतिकवादी दुनिया से अलग कर दें, तो आध्यात्मिक शक्ति उत्पन्न होती है। जितना अधिक हम इन्द्रिय-विषयों का भोग करते हैं, हम उतने ही अधिक मूर्ख, दुष्ट और शक्तिहीन होते जाते हैं।

वशिष्ठ तथा विश्वामित्र जैसे महान ऋषि-मुनि सभी गृहस्थ थे, फिर भी वे स्वयं पर पूर्ण नियंत्रण रखते थे। उन्होंने सभी इंद्रियों और मन को ईश्वर की ओर निर्देशित किया।

उन्होंने गृहस्थ आश्रम में रहकर इन्द्रियों और मन को वश में किया। जब उन्होंने अपनी इंद्रियों और मन को नियंत्रित किया, तो उनके अंदर शक्ति पैदा हुई जिसने बदले में उन्हें भगवान के प्रति मज़बूत बना दिया।

मुर्दानव को मारने के लिए भगवन श्री विष्णु जी ने माता एकादशी को उत्पन्न किआ था। इस लेख में हम Ekadashi Vrat और Ekadashi Vrat Katha (एकादशी व्रत कथा) के बारे में जानेंगे।

Ekadashi Vrat Katha (एकादशी व्रत कथा) In Hindi
इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Ekadashi Aarti (एकादशी आरती) Lyrics

एकादशी तथा एकादशी व्रत क्या है? (What is Ekadashi and Ekadashi Vrat?)

हिंदू पंचांग के हर एक माह की ग्यारहवीं तिथि को एकादशी कहा जाता है। आपको बता दें कि हिन्दू पंचांग के प्रत्येक माह में दो पक्ष होते हैं जिन्हें शुक्ल तथा कृष्ण पक्ष कहा जाता है।

प्रत्येक पक्ष लगभग 15 दिनों का होता है। इसलिए प्रत्येक पक्ष में एक बार एकादशी तिथि आती है और एक माह में दो एकादशी तिथियां होती हैं जो कि एक शुक्ल पक्ष तथा दूसरी कृष्ण पक्ष में होती है।

एक एकादशी पूर्णिमा के बाद और एक अमावस्या के बाद आती है। पूर्णिमा के दिन के बाद आने वाली एकादशी को कृष्ण पक्ष की एकादशी कहा जाता है तथा अमावस्या के दिन के बाद आने वाली एकादशी को शुक्ल पक्ष की एकादशी कहा जाता है।

इन दोनों प्रकार की एकादशियों का हिन्दू धर्म में बहुत बड़ा महत्त्व है। एकादशी का दिन भगवन श्री विष्णु जी तथा उनके विभिन्न अवतारों के लिए समर्पित है।

एकादशी के दिन हिन्दू धर्म में मानने वाले कई लोग व्रत का पालन करते हैं तथा व्रत कथाओं का पाठ करते हैं। प्रत्येक एकादशी के दिन के लिए व्रत कथा का वर्णन है।

प्राचीन काल में भगवन श्री कृष्ण जी ने एकादशियों का माहात्म्य पांडवों को बतलाया था।

एकादशी व्रत और एकादशी व्रत कथा कब करनी चाहिए? (When to do Ekadashi Vrat and Ekadashi Vrat Katha?)

Ekadashi Vrat और Ekadashi Vrat Katha (एकादशी व्रत कथा) आध्यात्मिक सफाई के बारे में है। यह भगवान विष्णु को समर्पित है।

हिंदू मान्यता के अनुसार चंद्र चरण के दो अलग-अलग चरण होते हैं – कृष्ण पक्ष (अमावस्या) और शुक्ल पक्ष (पूर्णिमा)। प्रत्येक चरण 15 दिनों का होता है।

ग्यारहवें दिन को एकादशी कहा जाता है। इस दिन रखे जाने वाले व्रत या कर्मकांड को एकादशी व्रत कहा जाता है और दुनिया भर में लाखों हिंदुओं द्वारा मनाया जाता है।

एकादशी का व्रत एक दिन पहले सूर्यास्त से शुरू होकर एकादशी के अगले दिन सूर्योदय के बाद तक रखा जाता है।

निचे दी गयी सूचि में हमने प्रत्येक एकादशी व्रत, एकादशी व्रत कथा तथा एकादशी व्रत विधि के बारे में विस्तार से लेख लिखे हैं। आप लिंक पर क्लिक कर के वे लेख पढ़ सकते हैं।

सभी एकादशी व्रत कथाएं

लिंक पर क्लिक कर के एकादशी व्रत कथाएं पढ़ें
चातुर्मास से पहले आने वाली एकादशियों की व्रत कथा
उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा (Utpanna Ekadashi Vrat Katha)
मोक्षदा एकादशी व्रत कथा (Mokshada Ekadashi Vrat Katha)
सफला एकादशी व्रत कथा (Saphala Ekadashi Vrat Katha)
पौष पुत्रदा एकादशी व्रत कथा (Pausha Putrada Ekadashi Vrat Katha)
षटतिला एकादशी व्रत कथा (Shattila Ekadashi Vrat Katha)
जया एकादशी व्रत कथा (Jaya Ekadashi Vrat Katha)
विजया एकादशी व्रत कथा (Vijaya Ekadashi Vrat Katha)
आमलकी एकादशी व्रत कथा (Amalaki Ekadashi Vrat Katha)
पापमोचनी एकादशी व्रत कथा (Papmochani Ekadashi Vrat Katha)
कामदा एकादशी व्रत कथा (Kamada Ekadashi Vrat Katha)
वरुथिनी एकादशी व्रत कथा (Varuthini Ekadashi Vrat Katha)
मोहिनी एकादशी व्रत कथा (Mohini Ekadashi Vrat Katha)
अपरा एकादशी व्रत कथा (Apara Ekadashi Vrat Katha)
निर्जला एकादशी व्रत कथा (Nirjala Ekadashi Vrat Katha)
योगिनी एकादशी व्रत कथा (Yogini Ekadashi Vrat Katha)
देवशयनी एकादशी व्रत कथा (Devshayani Ekadashi Vrat Katha)
चातुर्मास के बाद आने वाली एकादशियों की व्रत कथा
कामिका एकादशी व्रत कथा (Kamika Ekadashi Vrat Katha)
श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत कथा (Shravana Putrada Ekadashi Vrat Katha)
अजा एकादशी व्रत कथा (Aja Ekadashi Vrat Katha)
पार्श्व/परिवर्तिनी एकादशी व्रत कथा (Parsva/Parivartani Ekadashi Vrat Katha)
इंदिरा एकादशी व्रत कथा (Indira Ekadashi Vrat Katha)
पापांकुशा एकादशी व्रत की कथा (Papankusha Ekadashi Vrat Katha)
रमा एकादशी व्रत कथा (Rama Ekadashi Vrat Katha)
देवोत्थान/प्रबोधिनी एकादशी व्रत कथा (Devutthana/Prabodhini Ekadashi Vrat Katha)
अधिकमास या मलमास एकादशी व्रत कथा
पुरुषोत्तमी/परमा एकादशी व्रत कथा (Purushottami/Parama Ekadashi Vrat Katha)
कमला/पद्मिनी एकादशी व्रत कथा (Kamala/Padmini Ekadashi Vrat Katha)

इस पृष्ठ की PDF Download करें


onehindudharma.org

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Somvar Vrat Katha (सोमवार व्रत कथा) In Hindi

Leave a Comment

आज का पंचांग जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें। 👉

X
You cannot copy content of this page