Ekadashi Aarti (एकादशी की आरती) Lyrics


Ekadashi Aarti (एकादशी आरती) Lyrics

हिंदू शास्त्रों के अनुसार, एकादशी शब्द दो शब्दों से बना है जो एक (1) और दशम (10) हैं। दस इन्द्रियों और मन की क्रियाओं को सांसारिक वस्तुओं से ईश्वर में बदलना ही सच्ची एकादशी है।

एकादशी का मतलब है कि हमें अपनी 10 इंद्रियों और 1 मन को नियंत्रित करना चाहिए। काम, क्रोध, लोभ आदि के दुष्परिणामों को मन में नहीं आने देना चाहिए। एकादशी एक तपस्या है जिसे केवल भगवान को महसूस करने और प्रसन्न करने के लिए किया जाना चाहिए।

यदि हम इंद्रियों और मन को भौतिकवादी दुनिया से अलग कर दें, तो आध्यात्मिक शक्ति उत्पन्न होती है। जितना अधिक हम इन्द्रिय-विषयों का भोग करते हैं, हम उतने ही अधिक मूर्ख, दुष्ट और शक्तिहीन होते जाते हैं।

वशिष्ठ मुनि, विश्वामित्र मुनि जैसे ऋषि और मुनि सभी गृहस्थ थे, फिर भी वे स्वयं पर पूर्ण नियंत्रण रखते थे। उन्होंने सभी इंद्रियों और मन को ईश्वर की ओर निर्देशित किया। गृहस्थी में रहकर इन्द्रियों और मन को वश में किया। जब उन्होंने अपनी इंद्रियों और मन को नियंत्रित किया, तो उनके लिए शक्ति पैदा हुई जिसने बदले में उन्हें भगवान के प्रति मजबूत बना दिया।

मुर्दानव को मारने के लिए भगवन श्री विष्णु जी ने माता एकादशी को उत्पन्न किआ था। Ekadashi Vrat Katha (एकादशी व्रत कथा) के बाद Ekadashi Aarti (एकादशी आरती) करनी चाइये।

Benefits of Ekadashi Aarti (एकादशी आरती के लाभ)

इस दिन Ekadashi Vrat, Ekadashi Vrat Katha (एकादशी व्रत कथा) और Ekadashi Aarti (एकादशी आरती) करने से जीवन में आने वाली बाधाओं को दूर करने में सहायक माना गया है। भगवान विष्णु के साथ-साथ इस दिन माता लक्ष्मी जी की पूजा-अर्चना भी की जाती है। कहा जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु के वामन अवतार की पूजा की जाती है। इस दिन राजा बलि से भगवान विष्णु ने वामन रूप में उनका सब कुछ दान में मांग लिया था।

उसकी भक्ति से प्रसन्न होकर अपनी प्रतिमा भगवान विष्णु ने सौंप दी थी। इस वजह से इसे वामन ग्यारस भी कहते हैं। इसके व्रत का महत्व वाजपेज्ञ यज्ञ के समान माना गया है।

एकादशी व्रत का लाभ उन लोगों के लिए है जो भगवान विष्णु की आस्था और पूजा करते हैं। इसे हिंदू धर्म में सबसे फलदायी व्रतों में से एक माना जाता है। एकादशी व्रत के लाभ आपको शांति, सद्भाव और समृद्धि ला सकते हैं।

एकादशी व्रत का महत्व विष्णु ने युधिष्ठिर को बताया था। उन्होंने कहा कि जो लोग वास्तव में विश्वासयोग्य हैं उन्हें आत्मा को शुद्ध करने और मोक्ष प्राप्त करने के लिए इस दिन का पालन करना चाहिए।

चूंकि मानव जीवन का मुख्य उद्देश्य मोक्ष प्राप्त करना है, इसलिए Ekadashi Vrat और Ekadashi Vrat Katha (एकादशी व्रत कथा) को सभी के लिए विशेष रूप से उपयोगी बताया गया है।

इस पवित्र हिंदू अनुष्ठान के भक्त पर्यवेक्षक मन की शांति और समृद्धि प्राप्त करते हैं। इसलिए एकादशी के व्रत और कथा के बाद Ekadashi Aarti (एकादशी आरती) ज़रूर करनी चाहिए।

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Ekadashi Vrat Katha (एकादशी व्रत कथा) In Hindi
Ekadashi Vrat Katha (एकादशी व्रत कथा) In Hindi Ekadashi Aarti (एकादशी आरती) Lyrics

Ekadashi Aarti (एकादशी आरती)

|| एकादशी की आरती ||

ॐ जय एकादशी, जय एकादशी, जय एकादशी माता ।
विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता ।। ॐ।।

तेरे नाम गिनाऊं देवी, भक्ति प्रदान करनी ।
गण गौरव की देनी माता, शास्त्रों में वरनी ।।ॐ।।

मार्गशीर्ष के कृष्णपक्ष की उत्पन्ना, विश्वतारनी जन्मी।
शुक्ल पक्ष में हुई मोक्षदा, मुक्तिदाता बन आई।। ॐ।।

पौष के कृष्णपक्ष की, सफला नामक है,
शुक्लपक्ष में होय पुत्रदा, आनन्द अधिक रहै ।। ॐ ।।

नाम षटतिला माघ मास में, कृष्णपक्ष आवै।
शुक्लपक्ष में जया, कहावै, विजय सदा पावै ।। ॐ ।।

विजया फागुन कृष्णपक्ष में शुक्ला आमलकी,
पापमोचनी कृष्ण पक्ष में, चैत्र महाबलि की ।। ॐ ।।

चैत्र शुक्ल में नाम कामदा, धन देने वाली,
नाम बरुथिनी कृष्णपक्ष में, वैसाख माह वाली ।। ॐ ।।

शुक्ल पक्ष में होय मोहिनी अपरा ज्येष्ठ कृष्णपक्षी,
नाम निर्जला सब सुख करनी, शुक्लपक्ष रखी।। ॐ ।।

योगिनी नाम आषाढ में जानों, कृष्णपक्ष करनी।
देवशयनी नाम कहायो, शुक्लपक्ष धरनी ।। ॐ ।।

कामिका श्रावण मास में आवै, कृष्णपक्ष कहिए।
श्रावण शुक्ला होय पवित्रा आनन्द से रहिए।। ॐ ।।

अजा भाद्रपद कृष्णपक्ष की, परिवर्तिनी शुक्ला।
इन्द्रा आश्चिन कृष्णपक्ष में, व्रत से भवसागर निकला।। ॐ ।।

पापांकुशा है शुक्ल पक्ष में, आप हरनहारी।
रमा मास कार्तिक में आवै, सुखदायक भारी ।। ॐ ।।

देवोत्थानी शुक्लपक्ष की, दुखनाशक मैया।
पावन मास में करूं विनती पार करो नैया ।। ॐ ।।

परमा कृष्णपक्ष में होती, जन मंगल करनी।।
शुक्ल मास में होय पद्मिनी दुख दारिद्र हरनी ।। ॐ ।।

जो कोई आरती एकादशी की, भक्ति सहित गावै।
जन गुरदिता स्वर्ग का वासा, निश्चय वह पावै।। ॐ ।।

Ekadashi Aarti (एकादशी की आरती) Lyrics PDF Download


onehindudharma.org

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Shiv Aarti (शिव जी की आरती) Lyrics

Leave a Comment

आज का पंचांग जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें। 👉

X
You cannot copy content of this page