आज का पंचांग, आरती, चालीसा, व्रत कथा, स्तोत्र, भजन, मंत्र और हिन्दू धर्म से जुड़े धार्मिक लेखों को सीधा अपने फ़ोन में प्राप्त करें।
इस 👉 टेलीग्राम ग्रुप 👈 से जुड़ें!

Skip to content

Achutam Keshvam Bhajan Lyrics (अच्चुतम केशवम भजन लिरिक्स)

Krishna Bhajan Lyrics (कृष्णा भजन लिरिक्स) Dil Luta Baithi Sanwre Sarkar Par (दिल लुटा बैठी सांवरे सरकार पर) Achutam Keshvam Bhajan Lyrics (अच्चुतम केशवम भजन लिरिक्स)

आज का पंचांग जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें।
👉 पंचांग

Achutam Keshvam Bhajan Lyrics (अच्चुतम केशवम भजन लिरिक्स)

कृष्ण सभी भारतीय देवताओं में सबसे व्यापक रूप से पूजनीय और सबसे लोकप्रिय हैं, जिन्हें हिंदू भगवान विष्णु के आठवें अवतार के रूप में पूजा जाता है।

कृष्ण कई भक्ति संप्रदायों का केंद्र बन गए, जिन्होंने सदियों से अच्छी धार्मिक कविता, संगीत और चित्रकला का निर्माण किया है। कृष्ण की पौराणिक कथाओं के मूल स्रोत महाकाव्य महाभारत और पुराण हैं।

Krishna Bhajan Lyrics (कृष्णा भजन लिरिक्स) Dil Luta Baithi Sanwre Sarkar Par (दिल लुटा बैठी सांवरे सरकार पर) Achutam Keshvam Bhajan Lyrics (अच्चुतम केशवम भजन लिरिक्स)

आईये आज कृष्ण भगवन के इस प्यारे भजन के लिरिक्स को जानें।

[LYRICS] – Achutam Keshvam Bhajan Lyrics (अच्चुतम केशवम भजन लिरिक्स)

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरम,
राम नारायणं जानकी बल्लभम ॥

कौन कहता हे भगवान आते नहीं,
तुम मीरा के जैसे बुलाते नहीं,
अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरम,
राम नारायणं जानकी बल्लभम ॥

कौन कहता है भगवान खाते नहीं,
तुम शबरी के जैसे खिलाते नहीं,
अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरम,
राम नारायणं जानकी बल्लभम ॥

कौन कहता है भगवान सोते नहीं,
माँ यशोदा के जैसे सुलाते नहीं,
अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरम,
राम नारायणं जानकी बल्लभम ॥

कौन कहता है भगवान नाचते नहीं,
गोपियों की तरह तुम नचाते नहीं,
अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरम,
राम नारायणं जानकी बल्लभम ॥

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरम
राम नारायणं जानकी बल्लभम ॥

[VIDEO] – Achutam Keshvam Bhajan Lyrics (अच्चुतम केशवम भजन लिरिक्स)

Achutam Keshvam Bhajan Lyrics PDF Download (अच्चुतम केशवम भजन लिरिक्स)


onehindudharma.org

इस महत्वपूर्ण लेख को भी पढ़ें - Krishna Bhajan Lyrics (कृष्णा भजन लिरिक्स)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page